11 जुलाई, 2011

तेरा प्यार




तेरा प्यार दुलार

भूल नहीं पाती

जब पाती नहीं आती

मुझे बेचैन कर जाती |

तेरे प्यार का

कोइ मोल नहीं

तू मेरी माँ है

कोई ओर नहीं |

आज भी

रात के अँधेरे में

जब मुझे डर लगता है

तेरी बाहें याद आती हैं |

कहीं दूर स्वप्न में

ले जाती हैं |

फिर सुनाई देती है

तेरी गाई लोरियाँ

आँखें बंद करो कहना

मेरा झूठमूठ उन्हें बंद करना |

सारा डर

भाग जाता है

जाने कब सो जाती हूँ

पता ही नहीं चलता |

आशा

18 टिप्‍पणियां:

  1. माँ के प्रति सुन्दर उद्दगार ... अच्छी प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  2. lovely lines..
    Loved the imagery and respect for a mother.
    undoubtedly they deserve it.

    जवाब देंहटाएं
  3. भावुक कर देने वाली कविता... बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर मन की कोमल भावनायो का सुन्दर चित्रण
    शुभकामनाये

    जवाब देंहटाएं
  5. कोमल भावनायो का सुन्दर चित्रण

    जवाब देंहटाएं
  6.  अस्वस्थता के कारण करीब 20 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    जवाब देंहटाएं
  7. माँ से बढ़ कर कोई नहीं ... सुन्दर रचना है ...

    जवाब देंहटाएं
  8. माँ के प्रति सुन्दर उद्दगार| सुन्दर रचना है|

    जवाब देंहटाएं
  9. खूबसूरत शब्दों से सजी हुई सुन्दर और मार्मिक रचना!

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत ही खूबसूरत रचना ! मन को भाव विभोर कर गयी !
    ‘आँखें बंद करो ‘कहना

    मेरा झूठमूठ उन्हें बंद करना |

    सारा डर

    भाग जाता है

    जाने कब सो जाती हूँ

    पता ही नहीं चलता |

    बचपन की जाने कितनी रातें याद आ गयीं ! बहुत सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  11. माँ कभी नहीं सोती है सुंदर भावाव्यक्ति बधाई

    जवाब देंहटाएं
  12. 'आँखें बंद करो' कहना.....
    इस पंक्ति को आगे बढ़ कर ...............
    और मेरा उन्हें चुपचाप बंद करना
    ............ से जोड़ना

    इस कविता में अद्भुत माधुर्य पैदा कर रहा है| बधाई दीदी|

    कुण्डलिया छन्द - सरोकारों के सौदे

    जवाब देंहटाएं
  13. माँ जगती आँखों से अपने नींद पूरी करती है .............माँ पर लिखी गई सुंदर कविता

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: