20 सितंबर, 2020

कहाँ सजाऊँ यादों को


 

 

है बहुत पुरानी बात

 अचानक आज याद आई

भूली भटकी यादों को

अब कहाँ समेटा जाए |

मस्तिष्क में अब

रिक्त स्थान नहीं है

इस याद को कहाँ समेटूं

कहाँ दूं स्थान इसे |

कैसे इसे याद रखूँ

किसी बात से जब मन दुखे

 उसे भूलना ही अच्छा है

जीवन सहज चलने के लिए है अति आवश्यक  |  

तुम से नेह कभी कम न हुआ

उसे जीवन भर का संचित धन  समझा

है वही अनमोल मेरे लिए

प्रभु भक्ति से बढ़ा  कम न हुआ  |

अब तो आदत सी हो गई  है

तुम्हारी यादों के संग जीवन बिताने की

उनसे दूर हो कर जी नहीं पाऊँगी

तुमसे यदि  न कही किससे कहूंगी |

                                                  आशा

22 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज रविवार 20 सितंबर 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. सुप्रभात
      टिप्पणी हेतु आभार सहित धन्यवाद सर |

      हटाएं
  3. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा सोमवार 21 सितंबर 2020) को 'दीन-ईमान के चोंचले मत करो' (चर्चा अंक-3831) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्त्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाए।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    --
    -रवीन्द्र सिंह यादव

    जवाब देंहटाएं
  4. सूचना हेतु आभार रविन्द्र जी |

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति। शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद पुरुषोत्तम जी टिप्पणी के लिए |

      हटाएं
  6. किसी बात से जब मन दुखे
    उसे भूलना ही अच्छा है
    जीवन सहज चलने के लिए है अति आवश्यक

    सार्थक एवं प्रेरक पंक्तियां

    जवाब देंहटाएं
  7. लाजवाब अभिव्यक्ति।
    यादों पर बहुत कुछ लिखा जा चुका
    और बहुत कुछ है बाकी।

    पधारें नई रचना पर 👉 आत्मनिर्भर

    जवाब देंहटाएं
  8. आस्था की बयार है आपकी ये रचना आशा जी, प्रणाम।
    तुम से नेह कभी कम न हुआ

    उसे जीवन भर का संचित धन समझा

    है वही अनमोल मेरे लिए

    प्रभु भक्ति से बढ़ा कम न हुआ |...अभ‍िभूत

    जवाब देंहटाएं
  9. सुन्दर सार्थक भावपूर्ण रचना ! बहुत बढ़िया !

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर सार्थक....
    कुछ यादों को भुलाना ही श्रेयकर होता है

    जवाब देंहटाएं
  11. कोमल भावनाओं युक्त सुंदर रचना !!!
    बधाई!!!

    जवाब देंहटाएं
  12. बेहद खूबसूरत भावपूर्ण अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं
  13. धन्यवाद टिप्पणी के लिए सुजाता जी |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: