08 फ़रवरी, 2021

पक्षियों से ली सीख


                            कबूतर  तुम्हारा  नियमित  आना

समय से दाना चुगना

वख्त की अहमियत समझना

 यही  है मूल मन्त्र जीवन पथ पर 

अग्रसर होने का |

रोज निगाहें टिकी  रहती हैं

 छत पर समूह में एकत्र हो तुम 

  कब आओगे दाना चुगने

 ध्यान वहीं रहता है

कहीं भूखे तो न रह जाओगे |

जब भूख तुम्हारी शांत होती है

मुझे आत्म संतुष्टि मिलती है

जब तृप्त हो व्योम में  उड़ जाते हो

 मैं सोचती हूँ कितनी शान्ति

होती  होगी तुम्हारे मन में |

तुमसे मैंने भी शिक्षा ली है

यह जीवन  है सद्कार्यों  के लिए

परोपकार  का महत्व समझा है

 अपने लिए  जीना ही पर्याप्त नहीं |

आशा 

16 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन  में" आज सोमवार 08 फरवरी को साझा की गई है.........  "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. प्रतीक के माध्यम से व्यक्त सुन्द रचना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुप्रभात
      धन्यवाद शास्त्री जी टिप्पणी के लिए |

      हटाएं
  3. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (9-2-21) को "मिला कनिष्ठा अंगुली, होते हैं प्रस्ताव"(चर्चा अंक- 3972) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुप्रभात
      आभार कामिनी जी मेरी रचना की सूचना के लिए |

      हटाएं
  4. मैं सोचती हूँ कितनी शान्ति

    होती होगी तुम्हारे मन में |----अच्छी पंक्तियां...। पूरी रचना गहरी है।

    जवाब देंहटाएं
  5. यही सबसे विशेष बात है कि अपने आस पास घटित होने वाली हर गतिविधि से हम कुछ न कुछ सीख सकते हैं ! पंछियों का प्रतिदिन निश्चित समय पर दाना चुगने आना भी हमें अनुशासन की शिक्षा दे जाता है ! बहुत सुन्दर रचना !

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति, आदरणीया आकांशा जी किसी ने कहा भी है-परिंदो में फिकरा परस्ती क्यों नहीं होती कभी मंदिर पे जा बैठे कभी मस्जिद पे जा बैठे भारतीय साहित्य एवं संस्कृति

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. संजय जी मेरा नाम आशा है आकांशा नहीं |आकांक्षा तो ब्लॉग का नाम है |

      हटाएं
  7. धन्यवाद संजय जी टिप्पणी के लिए |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: