02 मार्च, 2021

क्यूँ विसराया मुझे

                                     


क्यूँ विसराया मुझे

मेरे मन के मीत

मेरी क्या रही खता

जो तुम भूले मुझे |

मैंने रात भर जाग कर 

राह देखी तुम्हारी 

फिर क्यूँ मुझे विसराया

 दिया इन्तजार बदले में |

क्या तुम्हारे दिल में

मेरे लिए कोई जगह नहीं है

या मुझमें कोई

आकर्षण नहीं है |

क्यूँ  किसी और को

अपनाया तुमने

मन बैरागी  होने लगा है  

मैंने तो अपना

 तन मन धन सब वैभव

  सोंप दिया है   तुम्हें |

पर तुमने  दिल से

कभी न अपनाया मुझे

मेरे ही साथ

यह दुभात क्यूँ ?

 आशा 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

                                                    

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

  

22 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (03-03-2021) को     "चाँदनी भी है सिसकती"  (चर्चा अंक-3994)    पर भी होगी। 
    --   
    मित्रों! कुछ वर्षों से ब्लॉगों का संक्रमणकाल चल रहा है। आप अन्य सामाजिक साइटों के अतिरिक्त दिल खोलकर दूसरों के ब्लॉगों पर भी अपनी टिप्पणी दीजिए। जिससे कि ब्लॉगों को जीवित रखा जा सके। चर्चा मंच का उद्देश्य उन ब्लॉगों को भी महत्व देना है जो टिप्पणियों के लिए तरसते रहते हैं क्योंकि उनका प्रसारण कहीं हो भी नहीं रहा है। ऐसे में चर्चा मंच विगत बारह वर्षों से अपने धर्म को निभा रहा है। 
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --  

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सर नमस्कार मेरा स्वाथ्य ठीक नहीं रहता है इस कारण अधिक देर कंप्यूटर पर बैठ नहीं पाती |पर सचमें मैं अधिकाँश रचनाएं पढ़ ही लेती हूँ |आपकी टिप्पणियों से लिखने की प्रेरणा मिलती है |मेरी रचना की सूचना के लिए धन्यवाद |

      हटाएं
  2. सच नियति एक जैसे नहीं होती सबकी

    जवाब देंहटाएं
  3. राधा के मन की व्यथा सुनाती बहुत ही सुन्दर रचना !

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह सरस पाती निष्ठुर कान्हा के नाम। पर ये प्रश्न अनुत्तरित रहा सदियों से---- कि क्यों बिसराया मुझे?

    जवाब देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  6. आदरणीया, कृपया इस लिंक पर पधारें...

    आधुनिक हिन्दी कवयित्रियों के प्रेमगीत

    इस किताब में आपकी माताजी के गीत भी संकलित हैं।
    शुभकामनाओं सहित,
    सादर
    डॉ. वर्षा सिंह

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीया वर्षा जी
      इस किताब में मेरी माताजी की रचनाएं सम्मिलित नहीं हैं|यह ब्लॉग आकांक्षा मेरा ही है |पर दूसरे ब्लॉग अमृतकलश मम्मी जी का है |उसमें प्राराम्भ की ११रचनाएं उनकी लिखी हुई है |बाक़ी पहले आकांक्षा में प्रोज पोस्ट की थीं फिर उन्हें इस ब्लॉग में शिफ्ट करदीं हैं जिससे नया और ब्लॉग बनाने के स्थान पर
      ऐसे ही काम चल जाए |मेरी रचनाओं पर मे३रा नाम लिखा है|
      अभीतक मैं १२ पुस्तकें अपनी प्रकाशित कर चुकी हूँ |
      आशा

      हटाएं
  7. हृदय स्पर्शी भावप्रवण रचना

    जवाब देंहटाएं
  8. विरह की वेदना को दर्शाता बहुत सुन्दर सृजन...

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: