13 जनवरी, 2022

मकर संक्रांति


 

त्राहि त्राहि मच रही है

इस सर्दी के मौसम में

पतंग तक उड़ा नहीं पाते

ना ही गुल्ली डंडा खेलते  |

घर में दबे महामारी के भय से 

जैसे ही कोई मित्र आए

मम्मी को पसंद नहीं आता

वह इशारे से मना कर देती |

छत पर जाने को पतंग उड़ाने को 

रंगबिरंगी पतंग काटने को 

मन मसोस कर रह जाते  

सोचा इस वर्ष नहीं तो क्या आगे जीवन पड़ा है| 

अभी बचपन नहीं गया है 

पर मन में खलिश होती रही  

सारा त्योहार ही बिगड़ गया

कुछ भी आनंद न आया |

 पतंग नहीं  उड़ाने में 

  तिल गुड़ खिचड़ी खाने में 

ना गए  मिलने मिलाने किसी से 

रहे घर में ही कोरोना  से बचने के लिए |

यही मन में रहा विचार 

सरकारी नियम पालना है जरूरी 

समाज में रहने के लिए 

अपने को निरोगी रखने के लिए |  

आशा  

8 टिप्‍पणियां:

  1. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शुक्रवार (14-01-2022 ) को 'सुधरेगा परिवेश अब, सबको यह विश्वास' (चर्चा अंक 4309) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है। 12:01 AM के बाद प्रस्तुति ब्लॉग 'चर्चामंच' पर उपलब्ध होगी।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुप्रभात
      आभार रवीन्द्र जी मेरी रचना को चर्चा मंच में स्थान देने के लिए |

      हटाएं
  2. भीड़ में जाना मना है लेकिन अपने घर की छत पर अकेले पतंग उड़ाने में क्या बाधा है ? अकेले अपनी छत से खूब पतंग उड़ायें ! दूसरों की पतंग भी काटें और जम के त्यौहार मनाएं ! मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मकर संक्रांति की हार्दिक शुभ कामनाएं |
      आभार सहित धन्यवाद साधना टिप्पणी के लिए |

      हटाएं
  3. इस महामारी ने हमे अपने त्यौहार भी सही से नहीं मानने दिए, आज की स्थिति का सही बखान करती रचना, लोहड़ी की बहुत-बहुत बधाई आपको

    जवाब देंहटाएं
  4. सुप्रभात
    आभीर सहित धन्यवाद हरीश जी टिप्पणी के लिए |आपको भी मकर संक्रांति और लोहड़ी पर्व के लिए बहुत बहुत बधाई सपरिवार |

    जवाब देंहटाएं
  5. कोरोना का यह अंतिम साल है, अगले बरस से सब सामान्य हो जाएगा

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: