25 मई, 2022

किसी से कुछ न चाहिए

 

मुझ को कुछ न चाहिए

 सब  मिला है भाग्य से |

 और कुछ न चाहिए 


किसने कहा कि मैं हूँ अक्षम     

मैं भी हूँ सक्षम हर कार्य में

पहाड़ हिला  सकती हूँ

आज की नारी हूँ

किसी से कम नहीं हूँ  |

ऊंची उड़ान हँ ध्येय मेरा

उसमें सफल रहूँ

 हार का मुह न देखूं

बस रहा यही अरमान मेरा |

यदि सफलता पाई

जीवन में आगे बढूंगी 

जीत लूंगी सारा जग 

पलट कर पीछे न देखूंगी |

आशा 

13 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 26-05-22 को चर्चा मंच पर चर्चा - 4442 में दिया जाएगा| चर्चा मंच पर आपकी उपस्थित चर्चाकारों का हौसला बढ़ाएगी
    धन्यवाद
    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह ! असली पूँजी यही आत्मविश्वास है ! इसीके सहारे मनुष्य हर कठिन से कठिन बाधा को सफलतापूर्वक पार कर जाता है ! सार्थक सृजन !

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर गुरुवार 26 मई 2022 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी रचना ने यह साबित कर दिया कि
    सक्षम की सही परिभाषा है आत्मविश्वास
    सार्थक सृजन

    सादर

    जवाब देंहटाएं
  5. प्रेरित करने वाली पंक्तियाँ

    जवाब देंहटाएं
  6. सार्थक सृजन। व्यक्ति में आत्मविश्वास हो तो वो क्या नहीं पा सकता है।

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: