17 मार्च, 2012

रिश्ते कठिन पहेली से

घर बनाया
जोड़े तिनके तिनके
हमराज खोजा
 सोचते सोचते
रिश्ते जुड़े
कुछ खून के
कुछ बनाए हुए
उन्ही में खोते गए
खुद को भूल के
पर आज लगते
सब खोखले रिश्ते
ठेस पहुंचाते
कई सतही रिश्ते
जब पास होते
जला करते
दूर होते ही
शोशा  उछालते
कटुता भर जाते मन में
कभी जज्बाती
दुखी कभी  कर जाते रिश्ते
होते कुछ कपूर से
तुरत जल जाते
तरल हुए बिना ही
बस अहसास छोड़ जाते
अपना होने का
रिश्ते तो रिश्ते ही हैं
क्या सतही क्या गहरे
अलग अलग रंग लिए
 कितनी दूर
कितने करीब
रिश्ते कठिन पहेली से |
आशा










12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी रचना आशा जी ...

    रिश्तों तो कहाँ परिभाषित किया जा सकता है...समझ के परे होते हैं ये...
    निभ गए तो बहुत बड़ी बात...

    सादर.

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति,बेहतरीन सार्थक सटीक रचना,...

    MY RESENT POST... फुहार....: रिश्वत लिए वगैर....

    जवाब देंहटाएं
  4. लेकिन जीजी हमारा रिश्ता तो सचमुच बहुत गहरा और सच्चा है बिलकुल खरे सोने सा ! शाम को मिलते हैं !

    जवाब देंहटाएं
  5. बढ़िया प्रस्तुति ||

    बधाई ||

    जवाब देंहटाएं
  6. रिश्ते तो रिश्ते ही हैं.
    क्या सतही क्या गहरे.
    अलग अलग रंग लिए ...
    निभाना तो पड़ता ही है इन्हें, चाहे कितनी भी कठिन पहेली से क्यों न हों... सुन्दर प्रस्तुति के लिए आपका आभार...

    जवाब देंहटाएं
  7. रिश्ते तो रिश्ते ही हैं
    क्या सतही क्या गहरे
    अलग अलग रंग लिए
    कितनी दूर
    कितने करीब
    रिश्ते कठिन पहेली से |

    सही है !!

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर भाव, अभिव्यक्ति, सार्थक रचना,...

    जवाब देंहटाएं
  9. "रिश्ते तो रिश्ते ही हैं
    क्या सतही क्या गहरे
    अलग अलग रंग लिए
    कितनी दूर
    कितने करीब
    रिश्ते कठिन पहेली से"

    खुबसूरत अभिव्यक्ति .... अदभुत.

    जवाब देंहटाएं
  10. रिश्तों को गहराई से नापा है..बेहद सुंदर रचना.

    जवाब देंहटाएं
  11. सच में रिश्ते ....निभाने बहुत कठिन हैं

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: