18 अक्तूबर, 2021

भमर क्यों फूलों पर मंडराते


                       भ्रमर तुम   फूलों  पर क्यों मंडराते

उनके मोह में बंध कर रह जाते

उन पुष्पों में ऐसे बंधते

कभी  बंधन मुक्त न हो पाते |

तुमसे तितलियाँ हैं बुद्धिमान बहुत

पुष्पों से मधु रस का आनंद लेतीं

और दूसरे के पास उड़ जातीं

होती स्वतंत्र  किसी बंधन  में न बंधती |

इतनी मोहक रंगबिरंगी तितलियाँ जब उड़तीं 

सुन्दर छवि हो जाती वहां की

एक फूल से दूसरे पर जाने से

मकरन्ध की सुगंध बगिया में उड़ती |

भवरे तुम काले हो  सुन्दर नहीं 

तितलियों से क्या तुलना करते 

तुम्हारा गुंजन भी नहीं  मधुर  

जब फँसते माली के चंगुल में तब पछताते | 


आशा

16 अक्तूबर, 2021

कोई विधा खोज न पाया




जाने कितने गीत लिखे

बिखरे बिखरे  शब्दों में

कोई विधा खोज न पाया

अभिव्यक्ति के लिए |

बहुत अच्छा लगा

जब किसी ने कहा

वाह क्या गीत है मन मोह लिया

गीत या संगीत दौनों में से कौन

आज तक समझ न पाया |

कोशिश झूटी लगी जानने की

जरूरत क्या है पहचानने की

काम चल ही जाता है

और अधिक की चाह नहीं है |

प्यार से जो मन में आया

वही लिखा  कुछ और नहीं

हर शब्द से जज्बात जुड़े है

कोई बंधन नहीं लिखने के लिए |

स्वतंत्र लेखन भी एक विधा हो जाती

अभिव्यक्ति सफल हो जाती

जब दिल की जरूरत पूर्ण होती

खुश रहने के लिए |

वही सफल लेखक कहलाता

जो अर्थ स्पष्ट कर पाता

अपने लेखन का

उद्देश्य सफल हो जाता लिखने का |

आशा

14 अक्तूबर, 2021

क्या सोचें ?

 


    

कब तक सोचें कितना सोचें

 कोई तो सीमा होगी  इसकी

पर  मस्तिष्क हो रिक्त जब

जीवन अधूरा लगता है |

दिन रात सोचने की बीमारी 

अब आदत सी हो गई है

किसी ने सत्य  कहा है

खाली दिमाग शैतान का घर |

दिल से सोचें अथवा दिमाग से

यादों का सलीब लटकता रहता

बोझ बन कर हर हाल में

 मन  विचलित  करता है | 

कभी सोचकर देखा है क्या ?

यदि हो खाली दिमाग

होगा क्या हश्र हमारा खुद का |

अतीत पीछे भाग रहा  है

कोई बच न पाया इससे

सुख दुःख की सीमा नहीं  है

हर समय अशांति  रहती  है |

कोई तो हल होगा इसका

जब शान्ति जीवन का हिस्सा होगी

 ऐसा होगा जाने कब 

जीवन शैली संतुलित होगी |

आशा

 

क्या आवश्यक सफलता के लिए


 

कितनी शिकायतें सुननी होंगी

उसका अंदाज नहीं है क्या ?

फिर भी कूद रहे  हो बिना तैयारी के  

जिन्दगी के मैदाने जंग में |

कितनी बार सबने समझाया  

पहले सोचो फिर कार्य करो  

यदि दिल दिमाग जाग्रत रखोगे   

कभी न पछतावा होगा  |

 भावुक होना जल्द्बाजी में

 उसी सोच पर कार्य करना

 असफल रहे यदि यत्न न किया

सर न उठा पाओगे  |

 घुटन होगी असफल हो कर तब

कितनी ही बार सोचोगे

पहले ही यदि सोच लिया होता

यह दिन न देखना पड़ता |

आँखें खुली रख जब दिल से सोचोगे

 किसी हद तक सफल रहोगे

दिल का सोच सब सही नहीं होता

यदि प्रतिफल न मिला पछताओगे |

केवल भावनाओं में जीने से

कोई सफल नहीं होता

दिल दिमाग दौनों हैं आवश्यक   

सफलता पाने   के लिए |

साहस के बिना भी कुछ न होगा

प्रयत्न पूरी शिद्दत से करना होगा

इस शिक्षा पर यदि चलोगे तभी सफल होगे

जिन्दगी की कठिन परीक्षा में |

सफलता तुम्हारे कदम चूमेंगी

समाज तुम्हें देगा सम्मान  

गिनी चुनी हस्तियों में होगा नाम 

यथोचित सम्मान तुम पाओगे |

आशा

13 अक्तूबर, 2021

नमन तुम्हें हे जगदम्बे

 




                                      नमन तुम्हें हे जगदम्बे

हर बार तुम्हारे दर पर आई

खाली हाथ कभी न लौटी

 सफल हुई सब कामना मेरी |

हे भगवती माँ शारदे

इसी तरह दरश देना हर वर्ष

वरद हस्त रख सर पर मेरे

देना आशीष मुझे |

मैं कुछ ऐसा कर जाऊं

अपना हित तो सब चाहते

मुझे पर हित की भी हो चिंता 

दो ऐसा वरदान मुझे |

नमन तुम्हें हे माँ दुर्गे

तुम शक्ति की हो प्रतीक

मुझको इतनी शक्ति देना मां

सेवा सब की कर पाऊँ |

आशा

12 अक्तूबर, 2021

है एक बहाना



बीती यादों का आना

                    दिखता है एक बहाना

पलायन की दिखती निशानी

बीता कल लौट कर न आना है |

भविष्य  के स्वप्नों में जीना

ऊंची उड़ान भरना

कल्पनाओं में खोए रहना

दिखाई देता खुद से भागना |

वर्तमान की ठोस धरा पर जीना

जीना ही सच्चाई  है

जिसने पार किया इस दौर को

जीवन सफल हुआ उसका |

जीवन के उतार चढ़ाव ही

सच्चाई हैं वर्तमान की

दूर भागना इससे

कायरता की है निशानी |

जियो बिंदास जीवन शैली

कल की किस को खबर

यहीं छोड़ सब को

इस दुनिया से जाना है |

आशा


डलझील के किनारे बैठा


 
 

एक शाम जब सैर को निकला

मौसम बड़ा मनोरम था

सौरभ  सुगंध भीगे फूलों की

दिग दिगंत में बिखरी थी |

दोपहर की तल्खी से  निजाद मिली  

 परिदृश्य बदलते देर न लगी

 वर्षा की नन्हीं बूदों की  

 रिमझिम फुहार आने  लगी  |

तन मन  भीगा अच्छा लगा

 मन की गर्मीं शांत हुई

आनंद की सीमा न रही 

देखी झील की नीली  आभा |

जल में लेम्प पोस्ट की पड़ती छाया 

पक्षियों की घर लौटने की ललक

  देखा कोलाहल मन भावन लगा

बेचैन हुआ जब गौधूलि बेला में  

कलरव  शोर में बदला |

शाम ढली रात की तन्हाई में

सर्द हवा के झोंकों  ने रोका

कुछ और समय बिताना चाहा

 झील के किनारे बैठा उदासी दूर  हुई   |

आशा

 

 

11 अक्तूबर, 2021

अनुपूरक एक दूसरे के

 


 कभी प्यार से  दुलार से

कभी धमका  चमका कर

हर बार डराया है समाज ने

बिना किसी उद्देश्य के |

जब चाहा कटघरे में खड़ा किया

 कारण जानने का भी हक़ न दिया उसे  

रखा सदा वंचित सामाजिकता के एहसास से

यह कैसा न्याय किया उससे |

कोई ऐसा अपराध न था उसका  

जिसके लिए प्रताड़ित किया गया उसे

क्षमा दान में भी की कंजूसी

 क्या थी आवश्यकता उसके  निष्कासन की |

आज तक समझ में न आई यह  गुत्थी  

आवश्यकता समाज की उसके लिए थी  

अथवा  समाज को  जरूरत उसकी 

या दोनों हैं अनुपूरक एक दूसरे के |

आशा 

10 अक्तूबर, 2021

मध्यप्रदेश


                          हमारे देश का हृदय है मध्य प्रदेश

भारत  के दिल में बसता 

पांच राज्यों की सीमाएं छूती इसे  

यह दिल से अपनाता सब को

कोई विवाद नहीं किसी से  |

 है प्रचुर वन संपदा यहाँ

 खनीजों की भी कमी नहीं

उर्वरा भूमि है यहाँ की

 हरियाली भरपूर यहाँ |

अभयारण्यों की वृहद सूचि है

है उत्तम रखरखाव  वहां का

पर्यटन स्थलों की कमी नहीं

है पांच अक्षरी नाम मध्यप्रदेश  |

इसने सबका  दिल जीत लिया है

हर क्षेत्र में खरा उतारा है  

है अग्रणी सांस्कृतिक गतिविहियों में

कालीदास की नगरी उज्जैनी |

कृष्ण सुदामा की शिक्षा स्थली

संदीपनी आश्रम में पाई थी शिक्षा दौनों ने

मंदिरों की नगरी अवन्तिका   

महाकाल  बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक

 हरसिद्धि देवी काल भैरव प्रसिद्ध  यहाँ |

पांच प्रमुख नदी  हैं इस प्रदेश की  

कालीसिंध शिप्रा चम्बल बेतवा नर्मदा  

पेय जल की कमी नहीं है

 हरा भरा है मध्य प्रदेश |

 है अग्रणी  हर क्षेत्र में इंदौर

देश के सबसे स्वच्छ शहरों में से एक

 जन मानस  सरल सहज यहाँ

उनका सहयोग बड़ा है इसे नम्बर एक बनाने में |

पांच प्रमुख बोलियाँ बोली जाती यहाँ 

यहाँ जो भी यहाँ आता यहीं बसना चाहता

 सबको अपनाते घुलमिल जाते   

 पानी में चीनी की तरह यहाँ |

भोपाल है राजधानी यहाँ की

 ताल तलैया भरे लबालब जल से

पर्यटक जब भी आते मौसम होता इतना प्यारा

 समय कम पड़ जाता घूमने के लिए |

तानसेन की कर्म भूमि यहीं थी

मशहूर ग्वालियर हुआ सांची के स्तूप से

ओरछा का महल  खजुराहो के मंदिर

हुए प्रसिद्ध प्रस्तर शिल्प के लिए|

यहीं जन्मी बड़ी हुई यहीं शिक्षा पाई

है यही कर्मभूमि मेरी  भी 

मध्य प्रदेश पर हो क्यों न  गर्व मुझे |

आशा 


09 अक्तूबर, 2021

वर्ण पिरामिड


 

      है

   वही

   प्यार की

   डोरी कच्ची

 पर न टूटे

 जरा झटके से

 मजबूत दिल से है

बनी कच्चे सूत से है

पर मजबूर नहीं है |

    मैं

    घटा

    हूँ काली

   नापती हूँ

 समस्त व्योम

चाँद तारों संग

लुका छिपी खेलती

हर बार मात देती हूँ

उन्हें जिन्हें मैं प्रिय नहीं |

   है

  तेरी

 सुन्दर

छवि वही

मुझ में बसी

 दूर न मुझ से  

ना मैं करना चाहूँ

 सबसे प्यारी वह मुझे |

हूँ 

स्वप्न 

तेरा मैं

ख्याल नहीं

हकीकत हूँ 

कल्पना नहीं हूँ 

सपना सच न  हो 

यह हो नहीं सकता 

 मन का विश्वास  हूँ मैं |


आशा